सीएससी संचालकों ने निकाली प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की जागरूकता बाइक रैली

आज कल मीडिया:

सीएससी संचालकों ने निकाली प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की जागरूकता बाइक रैली

शाहजहांपुर:- फसल बीमा कराने हेतु किसानों में जागरूकता बढे इसके लिए आज जिला मुख्यालय से सीएससी संचालको के द्वारा बाइक रैली का आयोजन किया गया, जिससे लोगो में जागरूकता बढे और वो लोग फसलो में प्राकृतिक आपदा से होने वाले नुकसान से बचने लिये अपनी फसल का बीमा करा सके। 

भारत सरकार के मिनिस्ट्री आफ आईटी एवं इलेक्ट्रॉनिक मंत्रालय द्वारा संचालित कॉमन सर्विस सेंटर "सीएससी" संचालकों ने आज प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना अंतर्गत किसानों एवं नागरिको को जागरूक करने के लिए जागरूकता बाइक रैली निकालकर इस योजना में और गति देने का काम किया है। जागरूकता रैली का शुभारंभ जिला कृषि अधिकारी ने हरी झंडी दिखाकर रैली को रवाना किया। उन्होने बताया कि जनपद के सरकारी बीज केंद्रों, बैंकों के अलावा जिले के सभी कॉमन सर्विस सेंटर "सीएससी" पर प्रधानमंत्री फसल बीमा की सुविधा उपलब्ध है। रैली ग्राम चौडेरा से आरंभ होकर विकास खंड की दर्जनों ग्राम पंचायतों से होते हुए ग्राम पंचायत मिश्रीपुर में समाप्त हुई एवं जनपद के आसपास के इलाकों में इस योजना के तहत होने वाले लाभ के बारे में आम जनमानस को जागरूक किया।

क्या है फसल बीमा:-

प्राकृतिक आपदा, कीट या बीमारी के कारण किसी भी अधिसूचित फसल के बर्बाद होने की स्थिति में किसानों को बीमा का लाभ और वित्तीय समर्थन देने के लिए प्रधानमंत्री फसल योजना की शुरुवात की गई थी, फसल का नुकसान होने की घटना के 7 दिन के भीतर राज्य सरकार द्वारा इस प्रावधान के लिए घोषणा करनी होती है, जबकि 15 दिन के भीतर बीमित क्षेत्र में बीमा कंपनी व राज्य सरकार की संयुक्त कमेटी प्रभावित किसानो की फसल का सर्वेक्षण करती है इसके बाद मुआवजा की घोषणा होती है।

क्या लगेंगे पेपर:-

किसी भी किसान को फसल बीमा करने के लिए निकट के सीएससी केंद्र पर जा कर अपना आधार कार्ड, बैंक खाते की जानकारी, खसरा-खेतौनी, फसल बोने का स्वप्रमाणित घोषणा पत्र , मोबाइल नंबर और फसल संबंधी जानकारी दर्ज कर बीमा करा सकते है।

कैसे मिलेगा योजना का लाभ:-

फसल बीमा योजना के तहत पंजीकृत किसानों को ओलावृष्टि, प्राकृतिक आपदा, जल भराव, प्राकृतिक आगजनी जैसी घटना होने पर कृषि विभाग और बीमा कंपनी के द्वारा संयुक्त सर्वे होने के बाद बीमा कंपनी द्वारा भुगतान किया जाता है।

प्राकृतिक आपदा से नुकसान होने के 72 घंटे के भीतर बीमा कम्पनी के टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर 18001035490 , 1888896868 अथवा बीमा कम्पनी के जिला कार्यालय दूरभाष नम्बर:- 05842 225 158 पर सम्पर्क करके अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

किसान को बीमा करने के बाद उसका एक प्रिंट दिया जायेगा जिसमे कितनी राशि उसको देनी है यह लिखा रहता है किसान के फसल और रकबे के अनुसार प्रीमियम घटता और बढ़ता है सबसे कम 30 रुपये के भुगतान से बीमा शुरू है।

उसके अतरिक्त किसी को अलग से कोई चार्ज नही देना होता है। फसल बीमा के लिये कोई भी किसान सीएससी केंद्र , कृषि विभाग, बैंक या नामित बीमा कंपनी के प्रतिनिधि से संपर्क कर अपना बीमा करवा सकते है। 

जिला प्रबंधक संजय कुमार एवं विपुल कुशवाहा व जिला समन्वयक चंद्रहास श्रीवास्तव ने बताया कि वर्तमान में सरकार द्वारा जारी इस योजना से लोगों को लाभान्वित किया जाना आरंभ हो चुका है, जिसकी अंतिम तिथि 31 दिसंबर 2020 है।

बीमा कम्पनी (इफको टोकियो जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड) के जिला प्रबंधक श्री विनीत पाण्डेय ने योजना के बारे में बताया कि रबी सीजन हेतु कृषक बंधु द्वारा गेहूं की फसल पर 1145 रू०/हेक्टेयर,मसूर पर 772 रू०/हेक्टेयर, सरसों पर 752 रू०/हेक्टेयर प्रीमियम देय है।जो कि बीमित धनराशि का 1.50 % है।

तथा आलू के फसल के लिए 6250 रू०/ हेक्टेयर प्रीमियम देय है जो कि बीमित राशि का का 5% है।

तथा पुनर्गठित फसल बीमा योजना के अंतर्गत जनपद में अधिसूचित फसल शिमला मिर्च हेतु 2500 रू०/ हेक्टेयर एवं टमाटर के लिए 2500 रू०/ हेक्टेयर प्रीमियम देय है।

जनपद के सभी ऋणी कृषक एवं गैर ऋणी कृषक बंधु से अपील है कि अपने फसल का बीमा अवश्य करवाएं।एवं योजना का लाभ उठायें।

इस अवसर पर जन सेवा केंद्र संचालक मोहम्मद हसन, सौरभ गुप्ता, शोएब खान, मोहित गंगवार व अन्य संचालक, तथा बीमा कंपनी के प्रतिनिधि प्रमोद कुमार, संदीप पाठक,सौरभ सिंह उपस्थित रहे।